Friday, April 4, 2014

Posessed: 'I Am Sorry', Serial killings during 1997-1998 (Episode 353, 354 on 4th, 5th Apr 2014)

Posessed
दीवानगी



A Ex-Service man Rajdev Thakur fells in love with a girl Girija from a poor family. Giriga's late father was servant at Rajdev's home. Near after two years police finds decomposed bodies of two men at Palval,haryana and Ghaziabad, UP. Both the bodies are written 'I am sorry' on their hand. Police is not able to get any info about these bodies. Next day a man named Waseem Rehman raises missing complain of his 2 sons Firoz and Kasim. They left home saying they are going their friend's home for a party. Police tells them that they have buried them because they were not able to find any identity of them.

Next year in 1998 police again finds body of a man in Delhi who was also written 'I am sorry' on his hand. During the investigation police finds another body in same conditions. Next day 2 people of Mishra family reaches police station to file a missing complain of their sons Nishant Mishra and Subhash mishra. They both were sons of Amarnath Mishra.

They were last scene with Rajdev Thakur. Police investigated their home but could not find anything. Later police also confirms a complain of two men whose bodies were found one year before. Police also confirms that there are some previous cases files by Girija against his servient owner Rajdev Thakur.

Right now Girija is missing and Rajdev Thakur is the most worried person about this.

एक रिटायर्ड फौजी राजदेव ठाकुर का 1995 में एक गरीब परिवार की लड़की गिरिजा पर दिल आ गया. करीब २ साल बाद जुलाई 1997 के एक ही दिन में 2 शव बरामद हुए, एक पलवल हरियाणा में और दूसरा ग़ाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश में. शव बुरी तरह से डीकंपोज़ हो चुके थे और दोनों के हाथों पर कुरेदा गया था 'आई एम् सॉरी'. पुलिस को इन शवों के बारे में और कोई जानकारी नहीं थी. इन शवों के बरामद होने के अगले दिन दिल्ली पुलिस के एक थाने में वसीम रहमान ने अपने दो बेटो फ़िरोज़ रहमान और कासिम रहमान की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज की. फ़िरोज़ और कासिम ये कह कर घर से निकले थे की वो रात के खाने पर एक दोस्त के यहाँ जा रहे हैं. पाए गए शवों की पहचान न हो पाने की वजह से उन्हें दफ़न कर दिया गया.

तकरीबन 1 साल बाद मई 1998 में दिल्ली की एक सड़क के किनारे एक और शव मिला जिस पर भी जबरन 'आई एम् सॉरी' कुरेद कर लिखा गया था. इस शव की तफ्तीश के दौरान पुलिस को एक और शव मिला जिसके हाथ पर 'आई एम् सॉरी' लिखा था. अगले दिन मिश्रा परिवार के दो लोग पुलिस थाने पहुचे. उनसे पता चला की शव उनके भतीजे निशांत और सुभाष मिश्रा के हैं. ये दोनों भाई अमरनाथ मिश्रा के बेटे थे.

सुभाष और नीशांत को आखिरी बार एक एक्स सर्विसमैन राजदेव ठाकुर के साथ देखा गया था. पुलिस ने सुभाष-निशांत के घर की तलाशी ली मगर उन्हें कोई सुराग नहीं मिला. पुलिस की जानकारी में 1997 का वो मामला भी आया जिसमे हरियाणा और दिल्ली में भी २ शव इसी तरह से मिले थे. पुलिस तफ्तीश में ये भी सामने आता है की गिरिजा ने 2 बार राजदेव ठाकुर के खिलाफ पुलिस कंप्लेन की थी और फ़िलहाल वो गायब है और उसकी गुमशुदगी से सबसे ज्यादा आहात राजदेव ठाकुर है.

YouTube:
Part 1: https://www.youtube.com/watch?v=z1tVegEWT7o
Part 2: https://www.youtube.com/watch?v=ST6TOxxQaxk

SonyLiv:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-353-april-4-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-354-april-5-2014



We are not able to get any online link of the story. any help will be appreciated...

No comments:

Post a Comment

You comment will be live after moderation....

You might also like