Monday, June 16, 2014

The Lost daughters: Village girls in sake of a better life and income (Episode 381, 382 and 383 0n 13, 14, 15th June 2014)



Anjali Kalita, daughter of Haridev Kalita is missing from her village. Villagers are doubting Somen, Gaurav and Divya Mishra who are outsiders in the village and belongs to placement agencies of Delhi. Their target is to trap innocent villagers and send them to Delhi. They ties to convince people to come to big cities like Delhi where they can brighten their future. Divya is saying that she is not involve in Anjali's missing case because she follows every legal step in her process and this would have been committed by Somen and Gaurav. Later Haridev moves toward Delhi in search of her daughter.

April, 2011.
Ramitha, daughter of Nakul Gohen goes missing and last time she was seen with Divya.

August, 2011
Daughter of Prakash Deka, Anushree goes missing.

Somen was seen by Nakul Gohen during 2012. Nakul was able to catch him and asks him about her daughter. Scared Somen tells him that her daughter is working at Ratan Arora's home in Delhi. He also tells him name of two placement agencies but clever Somen suns away from there.

2014
A Delhi based NGO finds Savera's Kamlesh's daughter Viddhi Vanman during a rescue operation against child labour on a construction site in Hakimpur, UP. Kamlesh tells them that there are several girls are missing from a near by village Kabeerpur.

NGO visits Kabeerpur. They talks to villagers whose daughter gone missing and gets three clues- name of Ratan Arora and two placement agencies. Now NGO starts their rescue operation to save these girls.

2010, कबीरपुर और सवेरा गोंव
हरिदेव कालिता की बेटी अंजलि कालिता गाँव से गायब है. गोंव वालो को शक है की इसके पीछे सोमेन, गौरव और दिव्या का हाथ है क्यों की वो लोग दिल्ली की प्लेसमेंट एजेंसी से ताल्लुक रखते हैं और गोंव वालो को ये कह कह कर अपने जाल में फ़साना चाहते हैं की शहर की जिंदगी गाँव से बहुत अच्छी है और अगर वो लोग दिल्ली चले जाएँ तो यहाँ से कई गुना ज्यादा वहां कमा सकेंगे. दिव्या मिश्र का कहना है की इन सब में उसका कोई हाथ नहीं है क्यों की वो जो भी काम करती है, सरकारी नियमों का पालन करते हुए ही करती है. उसका कहने है की अंजलि के गायब होने के पीछे ज़रूर सोमेन या गौरव का हाथ है. हरिदेव अपनी बेटी अंजलि का पता लगाने दिल्ली निकल जाता है और कभी लौट के नहीं आता है.

अप्रैल 2011 में एक और लड़की रमिता गायब हो जाती है. रमिता नकुल गोहेन की बेटी है और उसको आखिरी बार दिव्या से बात करते देखा गया था.

अगस्त 2011 में प्रकाश डेका की बेटी अनुश्री गायब हो जाती है.

2012 में पड़ोस के गाओं की वृद्धि बर्मन अपने पिता के सामने एक अनजान कार में बैठ कर न जाने कहाँ चली गई.

2012 में ही नकुल गोहेन को सुमेन दिखाई देता है. वो उसको धर दबोचते हैं. सोमेन चालाकी से भाग जाता है मगर ये बता जाता है की उसकी लड़की दिल्ली में है और रतन अरोड़ा नाम के आदमी के यहाँ काम करती है.

दूसरी और दिल्ली की एक एनजीओ ने उत्तर प्रदेश के हकीमपुर में बाल मजदूरी के खिलाफ एक रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जहाँ सवेरा गोंव के कमलेश की बेटी वृद्धि बर्मन मिली. कमलेश जब अपनी बेटी को लेने दिल्ली आया तो उसने एनजीओ को ये बताया की कबीरपुर गाँव की काई सारी लड़कियां इसी तरह से गायब हुई थी.

एनजीओ वाले कबीरपुर पहुचते हैं और गोंव वालों से बात करने पर उनके हाथ दो प्लेसमेंट एजेंसी और एक आदमी रतन अरोड़ा का नाम पता चलता है. एनजीओ अपनी मुहिम शुरू करता है इन बच्चियों को वापस लाने की.

YouTube:
Part 1: http://www.youtube.com/watch?v=qg7uv7oSx9Q
Part 2: http://www.youtube.com/watch?v=YEpT34S_Vxk
Part 3: http://www.youtube.com/watch?v=_fr_Whi_jEE

SonyLIV
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-381-june-13-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-1089-june-14-2014-1
Part 3: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-383-june-15-2014

"Another 19-year-old girl was rescued from West Enclave area in Delhi. The girl said she was brought by Ravinder, the same person who was involved in the earlier trafficking case, six years ago.........read more below
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/06/crime-patrol-trafficked-ranchi-girls.html

No comments:

Post a Comment

You comment will be live after moderation....

You might also like