Friday, September 12, 2014

Twisted Intenssion: Underprivileged Minor molested, attacked and abducted (Episode 410 on 29 Aug 2014)

Twisted Intenssion
उलटे इरादे

10 year old Jyoti Halsar belongs to a underprivileged family. She goes to school on rickshaw and a rickshaw puller Girish Chauhan has became friendly to her. Mostly he goes her school on Girish rickshaw. Jyoti's father Jagdish Halsar has became suspicious of his minor daughter Jyoti has become friendly with Girish. He warns her to make distance from Girish. Jagdish also use to showoff that he has come from lower cast (underprivileged people) family and takes advantage of provisions the constitution of India provides for protection of underprivileged populous.

Again a day Jagdish see her on Girish's rickshaw. After sometimes he brings Jyoti a police station and tells police that Girish and his mates molested Jyoti. Police brings her to that hostel where the incident took place and asks her to identify the guys.

Police arrests Girish and puts him behind the​​ bars. Girishs is clearly saying he is not involved in this. Few days after this Jagdish again reaches police station and informs police that Jyoti is now being attacked by Girish's brother in the market. He also shows the injuries on Jyoti's leg.

Few days after this attack, Jyoti disappears. Jagdish lodges a complain that Jyoti is now being kidnapped by Girish's family.

10 साल की ज्योति हलसर अपने स्कूल रिक्शे से आना जाना करती है. एक रिक्शे वाले गिरीश चौहान से उसकी अच्छी जान-पहचान हो गई सो वो अधिकतर उसी के रिक्शे पर स्कूल आती जाती है. उसके पिता जगदीश हलसर को ये बिलकुल भी पसंद नहीं है और इसके लिए वो ज्योति को कई बार टोकता भी है. जगदीश हलसर इस बात का बार बार दिखावा करता है की वो निचली जाति का है और हर कोई उसको उसकी जाति की वजह से दबाना चाहता है.

एक दिन एक बार फिर जगदीश ज्योति को गिरीश के रिक्शे पर देख लेता है. उसके कुछ समय बाद वो ज्योति को पुलिस ठाणे ले कर जाता है और वहां पुलिस को बताता है की गिरीश और उसके कुछ दोस्तों ने मिल कर ज्योति का शारीरिक शोषण किया है. पुलिस ज्योति को गिरीश के हॉस्टल ले जाती है जहाँ और उसको सारे लडको की पहचान करने को बोलती है.

पुलिस गिरीश को गिरफ्तार भी करती है जबकि गिरीश ये साफ़ तौर पर कह रहा है की उसने ऐसा कुछ नहीं किया है. इस घटना के कुछ दिन बाद जगदीश हलसर एक बार फिर ज्योति को पुलिस स्टेशन लेकर जाता है और पुलिस को उसके पैर में लगी चोट को दिखा कर बताता है की गिरीश के घरवालों ज्योती पर राह चलते हमला किया है. इस घटना के कुछ दिन बाद ज्योति गायब हो जाती है और जगदीश पुलिस को बोलता है की गिरीश के घर वालों ने ज्योति को गायब करवा दिया है.

पुलिस जब तफ्तीश करना शुरू करती है तो सच्चाई कुछ और ही सामने आती है...

Here is the inside story of the case:

No comments:

Post a Comment

Share your thoughts with the Post...