Saturday, December 6, 2014

Conspiracy Unearthed: Chain snaching gang investigation turns to a murder case (Episode 442, 443 on 6th, 7th Dec 2014)

Conspiracy Unearthed
पर्दाफाश


Kolhapur is struck with terror by a chain snatcher gang. They are doing their activity fearlessly in public. Till now police is not able to trace them and after number of cases police increases their patrolling in the city.

Two biker flees after an incident. A police inspector is trying to chase them but he fails. Later same police inspector finds two guys Shekhar and Prasad are harassing a Bhelpuri seller. Police inspector thinks they guys might come from same gang so they arrests them for inquiry. After some questioning police separates them and starts questioning again. Shekhar tells police that he is just a student and they both were just making fun of that peddler. He also tells police that Prasad has left studies and he does not do anything. Now police traps Prasad. He tell him that Shekhar has told everything about him, so now its his turn to tell the truth. Scared Prasad tells police that he is innocent while Shekhar cameback Kolhapur few days back after committing a murder in Pune. It was totally a shocking news for Police so now police starts interrogating Shekhar.

Shekhar tells police that he was called by a hospital wardboy Sanjay Daage to comminate some person in Pune. Sanjay was called by another companion Nagesh and Nagesh was called by his friend Kunal.

Police stats arresting all of them and then investigation for a chain snatching gang turns into a murder case in Pune.

कोल्हापुर शहर में चेन स्नेचेर (चेन छिनने वाली) गैंग का आतंक है. ये लोग पिछले कई दिन से सरेआम इन घटनाओ को अंजाम दे रहे हैं. पुलिस पूरी तरह से इन लोगों को पकड़ पाने में नाकाम है. इसी के चलते पुलिस अपनी सतर्कता बढाती है. पुलिस वाले सादी ड्रेस में पूरे शहर में बिछे हुए हैं. इसी बीच दो बाईकर एक घटना को अंजाम देकर भाग रहे हैं जिनका पीछा एक पुलिस वाला करता है मगर पकड़ नहीं पता है. इसी घटना के बाद वही पुलिस वाला 2 लड़के शेखर और प्रसाद को एक भेलपूरी वाले को परेशान करते देखता है. वो 2 लड़के उस भेलपूरी वाले से हफ्ता वसूलना चाहते हैं. पुलिस उन दोनों को शक की बिनाह पर पुलिस स्टेशन ले जाती है. काफी देर तक धमकाने के बाद पुलिस उन्दोनो को अलग अलग ले जाती है और बातों में फ़साने की कोशिश करती है. शेखर बताता है की वो एक स्टूडेंट है और अपना आईडी कार्ड भी दिखता है. वो बताता है की प्रसाद पढाई नहीं करता है और 1 साल पहले कॉलेज छोड़ चूका है. दूसरी तरफ पुलिस जब प्रसाद से सख्ती से पूछताछ करती है तो वो बोल देता है की वो एक सीधा सादा इंसान है जब की शेखर पुणे में एक काण्ड कर के आया है और वो पुणे गया था एक मर्डर करने.

पुलिस चौंक जाती है की वो क्या बोल रहा है. अब पुलिस वाले शेखर से और सख्ती से पूछताछ करते हैं तो वो शेखर बताता है की उसको संजय नाम के एक वार्डबॉय ने बुलाया था किसी को धमकाने के लिए और संजय को नागेश नाम के आदमी ने बुलाया था और नागेश को कुणाल ने बुलाया था. पुलिस एक एक कर के सभी को गिरफ्त में लेती है और तब एक मर्डर का खुलासा होता है.

YouTube:
Part 1: https://www.youtube.com/watch?v=6ZyxtAciGoI
Part 2: https://www.youtube.com/watch?v=VUd2QALFHqA

SonyLiv:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-442-december-6-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-443-december-7-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/12/crime-patrol-suspects-held-for-robbery.html


No comments:

Post a Comment

You comment will be live after moderation....

You might also like