Sunday, January 18, 2015

The Metal Rod: A medical metal rod in Hip helped police in identifying deceased Zahira Ansari (Episode 458, 459 on 16th, 17th Jan 2015)



Mumbai,
​Few kids finds a charred body near a dump area where they were playing. Police confirms that is a female body and woman would be near 60 year old. Postmortem report of the deceased reveals that the she would have gone through a hip replacement surgery because they found a medicated metal rod in her body. Police also gets a serial number and vendor's name on the metal rod. They approaches the hospital with help of this serial number and hospital confirms that woman's name was Zahira Ansari who was operated in the hospital with help of a trust.

Now police finds the NGO who took responsibility of Zahira's operation and they tells police that Zahira was a scrap dealer who used to collect useless belongings from anywhere and stores that at her home. After police reaches her home, they are shocked to see so much litter in the room. Police is wondering how a person can live in such untidy place.

When police starts investigating that place, they finds there some costly jewelry and some cash near INR 6 thousands. During this a person tells police that Zahira Ansari was a wealthy woman who also bought a flat in cash 16 lac few years back and later she sold that in 18 lac rupees. She used to give donations to needy people and she donated 18 lac rupees to a mosque. Many people also donated after seeing her donating a big amount.

मुंबई,
एक कूड़ाघर के पास खेल रहे बच्चों को एक जली हुई लाश मिलती है। वहां के लोग पुलिस को इन्फॉर्म करते हैं और पुलिस कन्फर्म करती है की ये लाश एक बूढी औरत की है जिसकी उम्र 60-65 साल रही होगी. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पता चलता है कि इस औरत की हिप-रिप्लेसमेंट सर्जरी हुई है क्युकी उसकी बॉडी में एक धातु की रॉड मिली है। पुलिस इसी रॉड के सीरियल नंबर की सहायता से पहले इसके वेंडर का पता लगाती है फिर उस अस्पताल तक पहुंच जाती है जहाँ ये ऑपरेशन हुआ था।

अस्पताल से पता चलता है की इस औरत की उम्र 65 थी और इसका नाम ज़ाहिरा अंसारी है। इसका ऑपरेशन एक ट्रस्ट की सहायता से हुआ था क्युकी वो एक गरीब औरत थी। पुलिस उस एन.जी.ओ. के पास जाती है तो वो बताते हैं की ज़ाहिरा अंसारी कूड़ा बीनने का काम करती थी। पुलिस जब उसके घर की तलाशी लेती है तो वहां सिर्फ कूड़ा ही कूड़ा मिलता है। इतना कूड़ा और इतनी दुर्गन्ध की पुलिस के लिए वहां खड़े होना तक दूभर है।

एन.जी.ओ. वाले पुलिस को बताते हैं की ज़ाहिरा अंसारी बहुत पैसे वाली औरत थी जो की ज़रूरतमंदों की बहुत मदद करती थी। यहाँ तक की कुछ समय पहले उसने सोलह लाख का एक फ्लैट कॅश देकर ख़रीदा था जो की उसने कुछ समय बाद अठारह लाख में बेच दिया। उसके बाद उसने वो अठारह लाख रूपए एक मस्जिद के बनने में दान कर दिए थे।

पुलिस जब दोबारा उसके घर के की तलाशी लेती है तो उनको कूड़े में कुछ गहने और छह हज़ार के आसपास कॅश मिलता है.  पुलिस स्तब्ध की जब ज़ाहिरा के पास इतना रुपया था तो वो इतनी बुरी तरह से क्यों रहती थी।

YouTube:
Part 1: https://www.youtube.com/watch?v=_WvjKgXlnXY
Part 2: https://www.youtube.com/watch?v=HvkIhum2Yxk

SonyLIV:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-16th-january-2015-the-metal-rod
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-459-17th-january-2015

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2015/01/crime-patrol-metal-rod-in-hip-helps.html


No comments:

Post a Comment

You comment will be live after moderation....