Friday, October 9, 2015

Forced Marriage: Who killed Kavita (Episode 567, 568 on 9th, 11th Oct, 2015)




Gopal and Kavita works in the same factory. Gopal likes Kavita and wants to marry her. Kavita does not want to get marry with him because her mother is suffering from Cancer and for her her mother is  her first priority. Kavita is getting good marriage proposals but she wants that her mother will get well soon.

Gopal starts creating some odd situations because of which Kavita gets forced to get marry with him. Their sudden marriage is shocking for her family and they can not understand why Kavita got married with him. Gopal's behaviour starts changing after marriage and he starts beating her on every small and big issue. In the mean time her mother passes away.

A day kavita leaves to meet her mother's sister. Day goes but she does not comeback. Next day Gopal and Kavita's father raises her missing complain. Their previous tenant Mulri becomes main suspect because during Kavita's mother was ill, her bought their home in 1 lac and paid 75,000. He was not paying remaining 25,000. Kavita went to meet him a day before her missing. Police arrests Murli and his friend Subhash.

After 3 days police find Kavita's partially burnt corpse. Forensic report confirm that this body belongs to Kavita. After police interrogation Murli and Subhash confesses that they killed Kavita because she was asking him for rest of the money. But they tell their family that they confessed this crime to get rid of police's interrogation.

गोपाल और कविता एक ही कारखाने में काम करते हैं। गोपाल कविता को पसंद करता है और उससे शादी करना चाहता है मगर कविता मना करती है। कविता इसलिए मना करती है क्युकी उसकी माँ कैंसर से पीड़ित है और रूपए की तंगी की वजह से उसकी माँ का इलाज ठीक से नहीं हो पा रहा है। वो पैसे इकठ्ठा कर के अपनी माँ का इलाज करवाना चाहती है। कविता के लिए अच्छे रिश्ते भी आ रहे हैं मगर वो माँ की तबियत ठीक न होने की वजह से किसी से भी शादी नहीं करना चाहती।
गोपाल कुछ ऐसे हालात पैदा कर देता है की कविता को गोपाल से शादी करनी पड़ती है। शादी होने के बाद गोपाल का बर्ताव बदल जाता है और वो कविता पर हाथ उठाना शुरू कर देता है। कविता दुविधा में है की शादी को सिर्फ दो महीने हुए हैं और उसको रोज ये सब झेलना पड़ता है।

एक सुबह कविता अपनी मौसी से मिलने निकलती है और रात तक वापस नहीं आती है। दिन बीत जाने पर उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट पुलिस स्टेशन में लिखवाई जाती है। कविता की मौसी बताती है की कविता का मकान एक लाख रूपए में मुरली नाम के आदमी को बेचा गया था जिसने 75,000 रूपए देने के बाद बाकी रूपए देने से मना कर दिया था। कबिता परसो ही उससे मिलने गई और आज वो गायब हो गई। पुलिस मुरली को अपने कब्जे में लेती है और उसके बाद उसके दोस्त सुभाष को।

3 दिन बाद पुलिस को कविता की लाश मिल जाती है और फोरेंसिक रिपोर्ट से उसकी जली हुई लाश की शिनाख्त कर ली जाती है। मुरली और सुभाष भी कबूल कर लेते हैं की हत्या उन्दोनो ने मिल कर ही की थी मगर अपनी पत्नियों को बताते हैं की पुलिस उनको जानवरों की तरह मारती है तभी उन्होंने ये गुनाह कबूल कर लिया है।

चार्जशीट फ़ाइल की जाती है और मामला कोर्ट में पहुचता है।

SonyLiv: 
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/crime-patrol-satark-9th-october-2015-jabardasti-kiPart 2: http://www.sonyliv.com/watch/crime-patrol-satark-11th-october-2015-nirdosh

YouTube: 
Part 1: http://www.youtube.com/watch?v=yEQ6xfveSrQ
Part 2: http://www.youtube.com/watch?v=-NndwiZtIEQ

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2015/10/crime-patrol-hc-orders-compensation-to.html

No comments:

Post a Comment

You comment will be live after moderation....

You might also like