Saturday, November 5, 2016

Target: Gang of four kidnappers chooses a wrong target (Episode 731 on 4th Nov, 2016)

निशाना
Target

Kidnappers Jatin, Ashraf, Shalini and Atul has unique modus operandi in executing their kidnapping plan. Through news papers advertisement they searches for their target who is looking for a big land deal. They calls that person to show them a land and then on gun point forces him to pay a hefty sum of money if he wants to return home safely. That person asks someone his known to transfer amount to kidnapper's account and when the amount is transferred, they lets their target go. This gang has successfully executed 8 kidnapping and ransom plans and now planning for their next target who Bilal Farukhi.

Shalini, the only female member of the gang is observing from a long time that Bilal is wealthy person and according to her he is a chief engineer. Shalini first traps Bilal through her own business of organising big corporate events. Later these four kidnaps Bilal. They forces Bilal to transfer 1.5 Crore rupees to Jatin's bank account but Bilal is saying that he haven't even seen this big amount in his life. He also tells that he is not a Chief Engineer but a senior clerk who works for his boss who is a chief engineer.
Kidnappers are now shocked that due to Shalini's mistake they have chosen a wrong target. Now they forces Bilal to ask his son to transfer fifteen lac rupees in their account. Bilal now talks to his son and instructs him to transfer fifteen lac rupees to Jatin's account.


जतिन, अशरफ, शालिनी और अतुल एक किडनेपिंग गैंग के मेंबर हैं। इनके टारगेट ढूंढने का तरीका अलग है। ये लोग पैसे वाली पार्टी को महँगी ज़मीन दिखाने के बहाने शहर से दूर ले जाते हैं और फिर बन्दूक की नोक पर उसको अपने अकाउंट में एक बड़ा अमाउंट ट्रांसफर करने को बोलते हैं जो की फ़ोन के द्वारा किसी और से करवाया जाता है। ये गैंग अभी तक आठ टारगेट फांस चुकी है और नौवें की तयारी में है।

इनका नौवा टारगेट बिलाल फारूकी है। शालिनी पहले बिलाल को अपने बिज़नेस के सिलसिले में जाल में फ़साना शुरू करती है और बाद में राह चलते किडनैप करवा लेती है। ये चारो बिलाल को बाध्य करते हैं की वो जतिन के अकाउंट में डेढ़ करोड़ रुपये अभी ट्रांसफर कराये मगर बिलाल बोलता है की इतने रुपये तो उसने अपनी ज़िन्दगी में देखे भी नहीं हैं कभी। बिलाल को मारने पीटने के बाद ये पता चलता है की बिलाल कोई बहुत पैसे वाला आदमी नहीं हैं बल्कि एक सीनियर क्लर्क है जो की अपने बॉस का काम देखता है और उसके बॉस एक चीफ इंजीनियर हैं। चारों सकते में आजाते हैं जब उनको ये एहसास होता है की उन्होंने गलत टारगेट चुन लिया। अब वो लोग बिलाल को दस लाख रूपए ट्रांसफर करने को बोलते हैं। बिलाल अपने बेटे को फोन पर बोलता है की वो जतिन के अकाउंट में दस लाख रूपए डाल दे तुरंत।

बिलाल का बेटा रिज़वान स्पेशल टास्क फ़ोर्स को सारी बात बताता है और मामले की छानबीन शुरू होती है।

SonyLiv:
http://www.sonyliv.com/Target-Crime-Patrol-Satark

YouTube:
https://www.youtube.com/watch?v=GHIiDry7tao

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2016/11/crime-patrol-city-based-kidnappers-gang.html
Search Tags: Jatin Rai, Kanpur, Varanasi, Banaras

No comments:

Post a Comment

You comment will be live after moderation....

You might also like