Monday, September 8, 2014

Discontented: Murder of retired FIC manager and his grand daughter (Episode 412 on 5th August 2014)


Sarita (real name Reena and played by Swati Tarar) is a divorcee who got separated after death of her 3 months old daughter. She divorced her husband because her mother-in-law was blaming her for this death. On the other hand Jagdish Sethi (real name Hitesh played by Mazher Sayed), who lives with his father Kulbhushan Sethi (real name Narinder Kumar Anand and played by Shakti Singh) and is a father of a ​7 year old girl Prerna (real name Areva). His ​father and friends are forcing him to get re-marry for sake of his daughter and himself. His friend tells him about Sarita, who is a divorcee and also wiling to get re-marry. Jagdish meets Sarita and they agrees to get marry. After their marriage they starts living together in Jagdish's home. Prerna who was earlier living with her nana-nani, is now living with Jagdish and Sarita.

Everything is going good but an evening after returning from market, Sarita sees smoke is coming from her home. Confused and scared Sarita calls her neighbors to come with her. After opening the doors, they are shocked to see dead bodies of Kulbhushan and Prerna.
20​14, ​लुधियाना
Narindar Kumar and Rewa
सरिता धीरेन्द्र की पत्नी है जिसने बेटी की मृत्यु के बाद ​अपने पति से तलाक ले लिया था क्युकी उसकी सास उस​को ​इस मृत्यु का जिम्मेदार मानती थी। दूसरी तरफ जगदीश सेठी जो की एक बच्ची प्रेरणा का पिता है और उसकी पत्नी​ दिव्या की मृत्यु हो चुकी है। उसकी बेटी अपने नाना-नानी के यहाँ रहती है। जगदीश अपने पिता कुलभूषण सेठी के साथ रहता है. जगदीश का दोस्त और पिता उस​ ​पर दूसरी शादी करने का दबाव डालते हैं जिससे की उसकी जिंदगी भी ठीक से
कट सके और बेटी प्रेरणा को भी एक माँ का प्यार मिल सके। दोस्त के कहने पर जगदीश सरिता से मिलता है। दोनों एक दुसरे से शादी करने को राजी हो जाते है और शादी के बाद सरिता जगदीश के घर आकर रहने लगती है. जगदीश अपनी बेटी प्रेरणा को भी ​अपने घर ले आता है। सब कुछ ​अच्छे से चल रहा है मगर एक दिन शाम चार बजे मार्किट से वापस आने के बाद सरिता देखती है की उसके घर से धुंआ निकल रहा है। वो डर जाती है और पडोसी को को तुरंत बुला कर लाती है। घर का दरवाज़ा खोलने पर वो देखती है की उसके ससुर के कमरे में ससुर कुलभूषण और बेटी प्रेरणा की लाश बेड पर पड़ी हैं।

Here is the inside story of the case:

No comments:

Post a Comment

Share your thoughts with the Post...