Friday, June 26, 2015

Qaid: Nazneen, Rashmi and Hina trapped into Human Trafficking (Episode 523, 524 on 26th, 27th June 2015)

Qaid
कैद


Story belongs to a human trafficking case of Ahmedabad, Gujarat’s Barkana village. Barkana is a small village consists near 450 families and its total population is around 2300. The strange thing of this village is that female population of the village is near 10% of the total population. Main impact of this unusual percentage is clearly shows the marital status of men belongs to the place. Being un-married, most of the men buys women to fulfill their desire. A human trafficking gang of just 9 people was active in this village. There job was to bring innocent girls (age 16+) from other places to the village and to sell them on a good price.

Tabassum (played by Malini Sen) is maternal aunt of Nazneen (played by Raquel Rebellowho lives with Nazneen and her mother. A Tabassum meets a woman named Shalini Thakur on the Kandivali Bus stop. She tells Tabassum that she has a good job offer for girls of age between 16 to 35. He tells Tabassum that the girl will work at a catering service company based on Ahmedabad and for this she will get 15,000 rupees. Besides salary she will get a place to stay and 5 leaves in a month. Tabassum feels that the job is good for her niece so she discusses this with Nazneen. Nazneen feels really happy after getting this job offer.

Nezneen’s tow neighbors comes to meet them when she get information that Nazneen is going to Ahmedabad. They tells them that a month ago their daughters Hina and Rashmi also went Gujarat for same kind of job offer and after they went, they lost all the contacts with them. Tabassum assures them that she is going with Nazneen to drop her to that company and will tell everything after coming back from there.

After few days Shalini Thakur again meets Tabassum and Nazneen and give them the train tickets. Shalini does not give her mobile number to any of them and assures them that they will not get any trouble while reaching Ahmedabad office.

After reaching Ahmedabad, a lady with a man reaches railway station to bring them. They brings both of them to a village far from the main city. Nazneen finds Hina and Rashmi there. Both the girls are looking very nervous. They send both the girls back to their rooms and locks the room from outside. Somehow during the midnight Hina manages to meet Nazneen and tell her that they have been trapped abd the place does not have anything like a catering service.

ये कहानी सनद तालुका, अहमदाबाद के एक छोटे से गांव बकरना के ह्यूमन ट्रैफिकिंग केस पर आधारित है। बकरना गांव में लगभग साढ़े चारसौ परिवार रहते हैं। गांव की आबादी करीब 2300 के आसपास है जिसमे मर्दों का अनुपात महिलाओं से ज़्यादा है। यहाँ महिलाओं की आबादी कुल आबादी की दस प्रतिशत ही है जिसकी वजह से गांव में अविहाहित मर्दों की संख्या बहुत ज़्यादा है और इसीलिए ह्यूमन ट्रैफिकिंग को बढ़ावा मिल गया है। इन ह्यूमन ट्रैफिकिंग गैंग का काम होता है गांव के मर्दों के लिए जवान लड़कियों को बरगला कर लाना और फिर उनको मुह मांगे दाम पर मर्दों को बेच देना।

नाज़नीन की खाला तबस्सुम को मुंबई के कांदीवली बस स्टॉप पे शालिनी ठाकुर नाम की एक महिला मिलती है जो की बताती है की वो एक प्लेसमेंट एजेंसी से है और उसे सोलह साल से पैंतीस साल तक की लड़की एक कैटरिंग कंपनी में नौकरी के लिए चाहिए। लड़की की नौकरी गुजरात में लगेगी और उसको महीने का पंद्रह हज़ार मिलेगा। इसके अलावा महीने में पांच छुटियाँ मिलेगी और रहने खाने की अलग व्यवस्था होगी। तबस्सुम को नाज़नीन के लिए ये नौकरी सही लगती है। नाज़नीन को जब वो बताती है तो नाज़नीन किसी तरह से अपनी अम्मी को मना लेती है और गुजरात जाने का फैसला करती है। नाज़नीन की दो पड़ोसियों को जब पता चलता है की नाज़नीन गुजरात जा रही है तो वो लोग दौड़ी दौड़ी नाज़नीन के घर मिलने आती है और बताती हैं की उनकी बेटियां शालिनी और हिना भी एक महीने पहले ऐसे ही गुजरात गई थी तब से उनकी कोई खबर नहीं है। तबस्सुम उनलोगों को आश्वासन देती है की वो खुद नाज़नीन को गुजरात छोड़ने जा रही है और वापस आकर सब बताएगी।

कुछ दिन बाद वही औरत फिर से तबस्सुम और नाज़नीन को मिलती है और उनको अहमदाबाद का ट्रैन टिकट देती है। तबस्सुम भी नाज़नीन के साथ उसको गुजरात तक छोड़ने जाने का फैसला करती है। नाज़नीन और तबस्सुम दोनों के शालिनी से मोबाइल नंबर मांगने पर वो मना कर देती है और ये आश्वासन देती है की उन लोगों को गुजरात ऑफिस तक पहुचने में कोई दिक्कत नहीं होगी।
Hina, Nazneen and Rashmi. Victim of Human/Bride trafficking
गुजरात पहुचने पर इन दोनों को एक औरत और एक आदमी स्टेशन पर लेने आते हैं और इनको शहर से काफी दूर एक घर में ले जाते हैं जहाँ पर उनकी मुलाकात हिना और रश्मि से होती है। हिना और रश्मि दोनों ही बहुत घबराई हुई हैं और सिर्फ गले मिलने के बाद उनको वापस उनके कमरे में भेज दिया जाता है। रात के वक़्त हिना किसी तरह अपने कमरे से निकल कर नाज़नीन के पास पहुचती है और उसको बताती है की यहाँ कोई कैटरिंग का बिज़नेस नहीं है और अपनी एक महीने की आप-बीती सुनाती है।

SonyLiv:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/crime-patrol-satark-26th-june-2015-the-well-organi
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/crime-patrol-satark-27th-june-2015-nazneen-makes-a

YouTube:
Part 1: http://www.youtube.com/watch?v=L-Km7J1xIBw
Part 2: http://www.youtube.com/watch?v=gjWkimoOTr8

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2015/06/crime-patrol-gang-sold-women-from.html



No comments:

Post a Comment

You comment will be live after moderation....