Friday, October 30, 2015

India's First Lady Serial Killer K. D. Kempanna alias "Cyanide Mallika" (Crime Patrol Dial 100 Episode 4 on 29th Oct, 2015)

Crime Patrol Dial 100: Sone ki Chahat - Episode 4 on 29th October, 2015




News of mysterious murders are coming from different places of country. Killer is killing ladies in a same manner and looks like a serial killer. He is killing only married women while they are wearing their wedding dress and all these crimes are happening between 7-8 months of gap. All the women dies of Potassium Cyanide and their all ornaments are missing.

Story is based on India's first Lady Serial Killer K. D. Kempanna alias Mallika. She did her first crime during 1999 when she killed a woman outskirt of Bangalore and before she caught in 2007, killed total six women between 1999 and 2007. Her modus operandi was to show herself as a very pious woman which is very well acquainted and religious. She becomes friendly with the victims who belonging to wealthy families. She used to gain their confidence that be following some rituals recommended by her, they will overcome their sufferings. She brings them to some temple of dharmshala which is far from their home. Then during ritualistic worship she would mix potassium cyanide in their drinking water or food. After they dies, they flees with their valuables.

History:
Mallika had a small chit-fund business and was not living with her family and none of her family member was involved in these murders. She used to work as maid at some places and were arrested by police when she tried to rob some jewellery from a home while performing rituals. She was sent to jail for 1 year after this event and this was the reason she was thrown out of her home by her husband.Her husband was a tailor and she is a mother of a son and two daughters. Her one daughter had done diploma in fashion designing while other one was doing MA when she was arrested. Mallika used to change her name after every killing. Her last victim was Bangalore's Nagveni whome she killed during 2007.

India's 1st Lady Serial Killer
K. D. Kempanna alias Mallika
देश की कई अलग अलग जगहों से एक जैसी हत्याओं की ख़बरें आरही है। मारने वालों का शिकार सिर्फ शादीशुदा औरतें ही हैं। जो की सुहाग का जोड़ा पहने हुए हैं। ये सारी हत्याएं करीब सात-आठ महीने की अंतराल पर हो रही हैं। हत्यारा इन महिलाओं को पोटेशियम सायनायड खिला कर मारता है और उसके गहने लेकर फरार हो जाता है। एक बात और गौर करने वाली है की ये हत्यारा औरत को मार कर उसके सोने के गहने ही लूटता है, बाकी गहने छोड़ देता है।

पुलिस को यकीन है की ये हत्याएँ कोई एक सीरियल किलर कर रहा है क्युकी हत्या का जगह भले ही अलग अलग हो मगर महिलाओं को मारने का तरीका बिलकुल एक जैसा है।

कहानी देश की पहली महिला सीरियल किलर ​के. डी कम्पम्मा या साइनाइड मल्लिका पर आधारित​ है। मल्लिका ने अपना पहला शिकार 1999 में बैंगलोर के बाहरी इलाके की एक औरत को बनाया था और 1999 से 2007 में पकडे जाने तक उसने छह हत्याएं करीं। मल्लिका मंदिरों के आसपास उन औरतों को ढूंढती थी जो मानसिक रूप से बहुत परेशान हैं। कोई औरत अपने पति से दुखी होती थी और कोई और घर से जुडी किसी और बात से। मल्लिका इन औरतों में साहस बंधाती थी की वो सब ठीक कर देगी अगर वो मल्लिका की कहीं बातों का पालन करें। मल्लिका उनलोगों को पूरे गहने पहन के आने को बोलती थी और अकेले में एक धर्मशाला या मंदिर में बुलाती थी। वहां वो पहले तो पूजा-पाठ शुरू करती थी मगर बाद में उनपर या तो हमला कर के या फिर खाने-पीने की चीज में साइनाइड मिला कर देती थी जिससे वो औरत कुछ मिनट में ही मर जाती थी। हर बार की वारदात में उसको 25-30,000 मिल जाते थे।

पोटैशियम साइनाइड दुनिया का सबसे घातक जहर होता है जिसके खाने से वो तुरंत ही शरीर की कोशिकाओं को ऑक्सीज लेने से रोक देता है जिससे इंसान की मृत्यु हो जाती है और कुछ ही देर में उसका शरीर नीला पड़ जाता है। मल्लिका इस ज़हर का इन्तेजाम ज्वेलरी की दुकान से करती थी जहाँ साइनाइड का प्रयोग गहनों की सफाई के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

मल्लिका ने 1999 से 2007 तक 6 हत्याएं की और 2007 में 44 साल की उम्र में उसको गिरफ्तार किया गया। उसको अप्रैल, 2012 में सजा-ए-मौत दी गई जिसको उसी साल उम्रकैद में बदल दिया गया। उसके खिलाफ कोई सीधा सबूत नहीं मिल पाया इसलिए इस केस को कोर्ट ने 'रेयरेस्ट ऑफ़ दी रेयर' केस में डाला गया। मल्लिका की कार्य प्रणाली कुछ इस तरह थी की वो अपने आप को पवित्र और महा-भक्त जैसा दिखाती थी। वो इस बात पर ख़ास ध्यान देती थी की जिन औरतों को वो फंसा रही हैं वो अमीर परिवार से हैं। वो उनको आश्वस्त कराती थी की वो उनकी हर समस्या का समाधान कर सकती है। वो महिलाओं को समझाती थी की वो जो भी पूजा-पाठ करेगी, एक मंदिर में करेगी और इसके लिए उन औरतों को अपने सारे सोने के गहने पहन के आने होंगे जिससे की देवता उनसे प्रसन्न होंगे। जगह का चुनाव ये देख कर किया जाता था की वो महिला के घर से बहुत दूर हो।


मल्लिका चिटफण्ड का व्यापार करती थी और अपने परिवार से अलग रहती थी, इन वारदातों में उसके अलावा किसी की कोई भागीदारी नहीं थी। वो लोगों के घरों में काम करती थी और कई घरेलु चोरियां भी कर चुकी थी। उसको उसके पति ने घर से निकाल दिया था क्युकी उसने एक घर में चोरी की थी और एक साल जेल में भी काट चुकी थी। उसके पति का टेलर का काम था और उसके दो बेटे और एक बेटी भी हैं। गिरफ्तारी के समय तक उसकी एक बेटी फैशन डिजाइनिंग का डिप्लोमा कर चुकी थी और दूसरी बेटी एम.ए कर रही थी। उसका एक शिकार मीको लेआउट, बंगलोर शंकर की पत्नी रेणुका (23) थी जो की दिसंबर, 2006 में गायब हो गई थी और उसकी लाश कोलार के एक गेस्टहाउस में मिली थी। रेणुका की शिनाख्त होने के बाद एक जयम्मा नाम की महिला का जिक्र आया जो की असल में मल्लिका थी जो हर हत्या के समय अपना नाम बदल लेती थी। मल्लिका की आखिरी शिकार बैंगलोर की नागवेणी थी जिसको उसने 2007 में मारा था।

SonyLiv: 
http://www.sonyliv.com/watch/crime-patrol-satark-29th-october-2015-sone-ki-chah

YouTube: 
http://www.youtube.com/watch?v=XSroKFSdGtk

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2015/10/crime-patrol-serial-killer-mallikas.html

No comments:

Post a Comment

You comment will be live after moderation....

You might also like