Tuesday, November 18, 2014

Shootout: Jamshedpur serial murders and shootouts (Episode 433, 434 on 15th, 16th November 2014)



City is under terror of sudden shootouts. Four people are involved in this and are not traceable by police. Only wealthy persons are their target and most strange thing, that they runs away immediately after firing without taking any of victim’s belongings. 2 are already dead in these shootouts and police is completely failed in tracing them.

Balraj is one out of these 4. While he is at home often he stands in front of a mirror and starts talking to himself. A day while he is sitting in a hotel with his companions, a senior police officer comes to him and gives him some money. After few days police get an unknown call from a lady that one of the shootout gang is one of you. Her hint is about a policeman but police is still unable to understand who that can be!

JAMSHEDPUR July 27, 2014
शहर में अँधाधुंध शूटआउट हो रहे हैं. चार आदमी हैं जो इसको अंजाम दे रहे हैं मगर पुलिस इनकी पहुच से बहुत दूर है. ये चार लोग किसी न किसी बड़े अमीर आदमी को ही निशाना बनाते हैं और कमाल की बात ये हैं की सिर्फ गोलियां बरसा कर भाग जाते हैं. इनके शूटआउट में 2 लोगों की मृत्यु भी हो चुकी है. पुलिस हर तरह से इनकों खोजने की कोशिश कर रही है मगर कोई मार्ग नज़र नहीं आरहा है. इन चारों में से एक बलराज अक्सक अपने घर में आईने के सामने खड़े होकर अपने आप से ही बात करता रहता है. एक दिन बलराज अपने बाकी साथियों के साथ बैठा है तभी पुलिस का एक सीनियर ऑफिसर वहां से गुज़रते हुए उसको कुछ रूपए थमा जाता है.

कुछ दिन बाद पुलिस को एक गुमनाम फ़ोन आता है, फ़ोन पे औरत बोलती है की शूटआउट करने वाला आप में से ही कोई है. उसका इशारा पुलिस की तरफ है मगर पुलिस अब भी ये समझने में नाकाम है की ये कौन हो सकता है.

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/11/crime-patrol-psychopathic-killer.html


No comments:

Post a Comment

You comment will be live after moderation....

You might also like